Friday, 29 May 2015

How To Make Sweet Lime Mint Cooler Punch | Sathukudi/ Mosambi Juice | Summer Drink Recipe( कैसे बनाये घर पर पौष्टिक एवं स्वादिष्ट मुसम्मी/स्वीट लेमन जूस)


                   How To Make Sweet Lime Mint Cooler Punch        

                 कैसे बनाये घर पर पौष्टिक एवं स्वादिष्ट मुसम्मी/स्वीट लेमन जूस        


मुसम्बी या मुसम्मी एक एसा फल है जिसका रस लोग बहुत पीते हैं विशेषकर बीमारों को अवश्य दिया जाता है। यह नींबू जाति का ही फल है परन्तु नींबू से कई गुना लाभदायक है। भारत के कुछ क्षेत्रों में इसे मौसमी भी कहते हैं जबकि उत्तर प्रदेश में इसे 'मीठा नींबू' भी कहा जाता है। शरीर में पानी की कमी होने से मौसंबी का जूस पीने से बॉडी में भरपूर एनर्जी मिलती है। लेकिन यह जरूरी नहीं कि सिर्फ गर्मियों के दिनों में मौसंबी का सेवन किया जाता है। ठंड के सीजन में भी मौसंबी का आप सेवन कर सकते हैं। मौसंबी हैल्थ के साथ-साथ सुंदरता निखारने के लिए काम आती है। मौसंबी का फल ही नहीं, छिलका भी लाभदायक होता है।


       आवश्यक सामग्री |  Important Ingredients                                        



       माप | Masurement (used 1 cup = 250 ml)                                    


õमोसम्बी                                -                      दो , मध्यम आकार की
õचीनी                                    -                      छः बड़ी चम्मच
õपानी                                     -                     1.5 कप
õनींबू                                      -                     आधा
õभुना जीरा                               -                     एक छोटी चम्मच
õकाला नमक                            -                    स्वादानुसार
õपुदीने के पत्ते                            -                    दो या तीन
õआइस क्यूब                            -                    आवश्यकतानुसार
õमुसम्बी के स्लाइस                    -                    गार्निशिंग के लिए


       बनाने की विधि – (How to Make Sweet Lemon juice)                      



[सर्वप्रथम आप मुसम्बी को अच्छी प्रकार से छीलकर कुछ देर के लिए पानी में डाल दीजिये |

[कुछ देर के पश्चात आप मुसम्बी को पानी से निकालिए और उसके टुकड़े करके उनसे बीजों को अलग कर दीजिये , क्योंकि मुसम्बी के साथ यदि बीज भी पिस जायेंगे तो आपका जूस कड़वा हो जायेगा |

[बीजों को अच्छी तरह से मुसम्बी से अलग करने के पश्चात आप मुसम्बी के छोटे-कहते टुकड़े कर लीजिये , क्यूंकि छोटे टुकड़े इलेक्ट्रॉनिक जूसर में अच्छी तरह से पिस जाते हैं बजाय बड़े टुकड़ों के |

[इसके बाद आप मुसम्बी को अच्छी तरह से पीस लें | मुसम्बी के अच्छी तरह से पिस जाने के बाद आप जूसर में पानी , चीनी , नींबू का जूस डालें और एक बार फिर से जूसर ओन करें| ध्यान रहे चीनी अच्छी तरह से मुसम्बी के जूस में घुल जानी चाहिए |

[तत्पश्चात हम एक बाउल लेंगे और उसके ऊपर एक छलनी रखेंगे |

[इसके बाद हम पिसी हुई मुसम्बी को छलनी में डालेंगे तथा मुसम्बी के पल्प को एक चम्मच की सहायता से दबा-दबा कर अच्छी तरह से छान लेंगे|

[अब हम मुसम्बी के चने हुए जूस को गिलास में निकालेंगे और ऊपर से भुना हुआ जीरा और आइस क्यूब डालेंगे , तथा पुदीने के पत्ते और मुसम्बी के स्लाइस से उसकी गार्निशिंग करेंगे |

[आपका मुसम्बी का मसाला जूस तैयार है , आप इसे ठंडा-ठंडा सर्व कीजिये

       आवश्यक दिशा-निर्देश | Notes-                                                              


[आप चाहें तो इसमें ¼ नीबू का रस और आधा गिलास सोडा डाल सकते है आप इसके स्थान पर लिम्का भी डाल सकते है पर आपको लिम्का की मिठास के अनुसार चीनी की मात्रा संतुलित करनी पड़ेगी |

[यदि आपका जूस बच जाए तो आप इसको फ्रिज में एक-दो दिन तक स्टोर कर  सकते हैं

       मौसम्बी के जूस पीने के स्वास्थ लाभ-                                                       


[मौसमी हमारे शरीर  के लिए बहुत ही उत्तम प्राकृतिक आहार है ।

[ये फल बहुत गुणकारी है अगर शरीर में कमजोरी आ जाये या काम की वजह से थकान हो तो मौसमी का एक गिलास जूस या दो मौसमी शक्ति से भर देती है

[ये शरीर में नए खून का निर्माण कर सीधे दिल और दिमाग में ताज़गी देती है ।

[कब्ज़ के रोगियों को दोनों समय मौसमी का रस पीने से लाभ मिलता है ।

[जिन्हे रात को नींद अच्छी न आती हो या रात में नींद ही न आती हो उन्हें सोने से पहले एक गिलास मौसमी का जूस पीना चाहिए ये तुरंत शरीर में पहुंच कर बैचनी को मिटा देती है और शरीर  में आराम मिलता है ।

[मौसमी का रस खून को साफ करने का रामबाण उपाय है इसके सेवन से फोड़े फुंसी व सरे तरह के त्वचा सम्बन्धी रोग दूर हो जाते है |

[दिल के मरीज़ो के लिए मौसमी का जूस अत्यंत फायदेमंद है । क्यूंकि ये नसों को साफ कर खून के बहाव को संतुलित करता है अतः ज्यादा से ज्यादा मौसमी का फल या जूस ले तो दिल को सुरक्षा मिलेगी ।

[टाइफाइड बुखार हो जाये तो मौसमी का रस सबसे उत्तम रहता है । इसके सेवन से नए रक्त का निर्माण होता है 

[जुकाम हो जाये तो अदरक के रस के साथ मौसमी का रस मिलाकर देने से लाभ मिलता है ।

******************Recipe Presented By- Megha & Tarun


Show Comments: OR
Comments
0 Comments
Facebook Comments by

0 comments:

Post a Comment