Wednesday, 6 May 2015

Natural Ways to Keep Mosquitoes Far, Far Away(मॉस्किटो रिप्लीयन्ट क्रीम और मॉस्किटो लोशन जैसी खतरनाक उत्पादों के प्रयोग से बचें : आजमाएं मच्छर दूर भगाने के कुदरती उपाय)




                         आजमाएं मच्छर दूर भगाने के कुदरती उपाय       
            
                 Natural Ways to Keep Mosquitoes Far, Far Away    


मच्छर हमारे स्वास्थ्य  के लिए एक बड़ा गंभीर खतरा है। | मच्छर के काटने से खुजली पैदा होती है और साथ ही यह  मलेरियाडेंगूचिकनगुनियाआदि ऐसी कई बीमारियां फैलाने में सहायक है |मानसून के समय मच्छर बहुत परेशानी पैदा करते हैं और बाहर बैठने का मजा भी किरकिरा करते हैं मच्छरों को दूर रखने के लिए लोग कई विषैले कैमिकल्स का इस्तेमाल करते हैं | कुछ लोगों को इन रासायनिक एजेंटों के प्रयोग से शरीर से एलर्जी भी होती है और वे इनके इस्तेमाल  से नाक, त्वचा और गले से सम्बंधित समस्याओं के शिकार हो जाते हैं|



 मच्छर भगाने के लिए अक्सर लोग  मॉस्किटो रिप्लीयन्ट क्रीम और मॉस्किटो लोशन जैसी अलग -अलग दवाएं इस्तेमाल करते हैं | कई दवाएं तो  लिक्विड फॉर्म मे होती हैं, कोई कोइल  के रूप मे और कोई छोटी टिकिया के रूप मे होती हैं | वैज्ञानिको का मानना  है इन दवाओं के निर्माण में  डी एथलीन है मेलफो -क्वीन है और फोस्टीन का इस्तेमाल किया जाता है  | 


ये तीनों रसायन हमारे स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित होते हैं  कई बार देखा है की  मच्छर मारने वाली दवाए के इस्तेमाल से  कभी-कभी तो आम आदमी को अपनी जान से भी हाथ धो बैठना पड़ता है | इससे जो भीनी-भीनी सुगंध निकलती है वह एक  धीमा जहर है जो धीरे – धीरे श्वांस द्वारा हमारे  शरीर मे जाता रहता है और नुक्सान पहुचाता है कई  बार तो  आपने  यह भी अनुभव  किया होगा इनको  सुघने से हमारे  गले मे हल्की जलन होने लगती है | ये जो तीन खतरनाक कैमिकल डी एथलीन है मेलफो क्वीन है और फोस्टीन है | इन पर नियंत्रण विदेशी कंपनियो का होता  है | जो इन बिषैले उत्पादों को आयात कर यहाँ लाकर बेच रहे है | और कुछ स्वदेशी कंपनिया भी इनके साथ इस व्यपार मे शामिल है |











यूरोप के तकरीबन 56 देशो मे पिछले 20  साल इन रसायनों के नुक्सान को ध्यान में रखकर इन  पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है | और यहाँ हम  लोग अज्ञानता के कारन  अपने घर मे छोटे बच्चो को मच्छर से बचाने के उनके ऊपर ये लगाकर छोड़ देते हैं यह धीमा जहर होता है और दो-तीन महीने का बच्चा इस धीमे जहर को अपनी श्वास द्वारा अन्दर लेता है | अब आप ही बताइए मच्छर से जयादा खतरनाक तो ये विषैले उत्पाद होते है जिसको हम टीवी विज्ञापनों में देख खरीद लेते हैं और फायदे के स्थान पर नुकसान  उठाते हैं  इन टीवी विज्ञापनो ने आम आदमी का दिमाग पूरा खराब कर दिया है | यह बाज़ार  कई  अलग-अलग नामो से बिकती है |

मैं आपसे नम्र-निवेदन करता हूँ की आप इन विषैले उत्पादों का इस्तेमाल बिलकुल बंद कर  दें और भूलवश कभी भी इसका इस्तेमाल न करे |अतः आप इन जंतुओं से निजात पाना चाहते हैं तो  यहाँ मच्छरों को दूर रखने के प्राकृतिक उपाए दिए जा रहें हैं-

     नीम के तेल का प्रयोग -                                                                          

 

नीम मानव शरीर के लिए काफी लाभदायक है। लेकिन आपका स्वास्थ्यवर्धक होने के अलावा यह एक मच्छर नाशक भी है। अमेरिका की नेशनल रिसर्च काउंसिल ने भी अपने शोध में माना है कि नीम का तेल किसी भी रिपेलेंट से अधिक प्रभावी है। इतना ही नहींइसका पेड़ लगाने से भी मच्छर कम आते हैं। इसलिए बाजार से नीम का तेल ले आएं। और उसको दिये में डाल कर बत्ती बना कर जला दें। जबतक दिया जलेगाएक भी मच्छर आस पास नहीं फड़केगा | 40 -50 रुपए लीटर नीम का तेल मिल जाता है ! और 2 से 3 महीने चल जाता है | अमेरिकन मस्कीटो कंट्रोल असोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया है कि १:१ अनुपात में नारियल तेल के साथ नीम के तेल का मिश्रण मच्छर-मुक्त रखने का एक प्रभावी तरीका है। एक शक्तिशाली जीवाणुरोधीकवक विरोधी (एंटी फंगल)विषाणु (एंटी वायरस) एवं प्रोटोज़ोआल विरोधी एजेंट होने के नातेनीम आपकी त्वचा में एक विशेष गंध छोड़ता है जो मच्छरों को दूर रखती है। एक प्रभावी कीटनाशक मिश्रण बनाने के लिए बराबर भागों में नीम का तेल और नारियल तेल मिलाएं और अपने शरीर (सभी उजागर भागों) पर यह रगड़ें। यह कम से कम आठ घंटे के लिए मच्छर के काटने से रक्षा करेगा।

     नीलगिरी और नींबू का तेल-                                                                          



सी डी सी( सेंटर फॉर डिसीज़ कंट्रोल ) द्वारा सिफारिश किया गया नींबू के तेल और नीलगिरी के तेल का मिश्रण प्राकृतिक रूप से मच्छरमुक्त रखने का एक बहुत असरदार उपाय है। नींबू के तेल और नीलगिरी के तेल के असर करने की वजह एक सक्रिय घटक सिनियोल हैजो त्वचा पर लगाने पर एंटीसेप्टिक और कीट विकर्षक दोनों के गुण देता है। इस मिश्रण के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि यह प्राकृतिक है। इस मिश्रण का उपयोग करने के लिए बराबर अनुपात में नींबू के तेल और नीलगिरी के तेल का मिश्रण बनाएं और आपके शरीर पर इसका इस्तेमाल करें।

     कमरे में कपूर जलाएं-                                                                                
मच्छरों से बचाव करने के लिए कपूर का उपयोग अद्भुत काम करता है। अन्य प्राकृतिक उत्पादों की तुलना में ये पेड़ से निचोड़ा हुआ यौगिक सबसे लंबे समय तक मच्छर से बचाता है। एक कमरे में कपूर जलाएं और सभी दरवाजे और खिड़कियां बंद कर दें।१५-२० मिनट के लिए इसे इस तरह से छोड़ दें और एक मच्छर मुक्त वातावरण पाएं।

      खिड़की के पास तुलसी का पौधा रखें -                                                 
पैरासाईटोलौजी रिसर्च जर्नल में प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार तुलसी मच्छर के लार्वा को मारने में अत्यंत प्रभावी है और मच्छरों को दूर रखने में मदद करती है। इसके अलावाआयुर्वेद के अनुसार आप मच्छरों से बचने के लिए बस अपनी खिड़की के पास एक तुलसी का पौधा रखेँ। यह मच्छरों का घर में प्रवेश करने से रोकते हैं एवं उनका उत्पन्न होने का रोकथाम करते हैं।

    लहसुन का स्प्रे छिडकें -                                                                               


हमारे किचन की सब्जी की टोकरी में हमेशा पाए जाने वाले छोटे से लहसुन के बहुत सारे फायदे होते हैं। इनमें से एक फायदा जिसके बारे में कम ही लोग जानते हैं वो ये है कि ये मच्छर भगाने के काम आता है। लहसुन की कच्ची कलियां चबाने से भी मच्छर दूर रहते हैं। ऐसा लहसुन की तेज गंध के कारण होता है।
मच्छरों को दूर रखने का ये एक प्रमुख तरीका है। यह बदबूदार हो सकता है लेकिन यही कारण से मच्छर भाग जाते हैं। लहसुन की तीखी और कटु गंध मच्छर के काटने से और यहां तक ​​कि अपने घर में प्रवेश करने से भी रोकती हैं। इस उपाय का उपयोग करने के लिए आप लहसुन की कुछ फली पीसकर पानी में उबाल लें और जिस कमरें को आप मच्छर मुक्त रखना चाहते हैं वहां चारों ओर स्प्रे करें।

     टी ट्री ऑइल त्वचा पर मलें-                                                                         


क्या आपको पता है कि यह आपकी त्वचा और बालों के लिए फायदेमंद और एक बहुत शक्तिशाली जीवाणुरोधी होने के अलावा मच्छरों को दूर भगाने के लिए एकदम उचित हैअपनी गंधकवक रोधी और जीवाणुरोधी गणों की वजह से ये आपको मच्छरों के काटने से बचाता है और उन्हें दूर भगाने में मदद करता हैं। आप इस उपाय का उपयोग करना चाहते हैं तो अपनी त्वचा पर कुछ इसका तेल मलें या उसकी थोड़ी बूँदें एक वेपराइज़र में डालें। इस तरह इस तेल की महक हवा में फैल्के मच्छरों को दूर रखती है।

    पुदीने के पत्तों और एसेंस का उपयोग-                                                            

बाईयोरिसोर्स टेक्नोलॉजी जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार पुदीने का तेल या मिंट एक्सट्रैक्ट किसी भी अन्य कीटनाशक जितना प्रभावी पाया गया है। आप कई तरीकों में पुदीने के पत्तों और एसेंस का उपयोग कर सकते हैं। आप अपने शरीर पर इसका तेल लगा सकते हैं या अपने कमरे की खिड़की के बाहर पौधा रख सकते हैंया एक वेपराइज़र में डालके कमरे में पुदीने की सुगंध भर सकते हैं जिससे मच्छर भाग जाएंगे। या फिर आप पानी के साथ मिंट स्वाद वाले माउथवॉश का मिश्रण बनाके अपने घर के आसपास यह स्प्रे सकता हैं।

    लैवेंडर के तेल का एक कमरे में प्राकृतिक फ्रेशनर के रूप में छिड़काव-                   



यह ना ही सिर्फ यह खुशबूदार है पर एक शानदार तरीका भी है उन मच्छरों से बचने का। इस फूल की खुशबू अक्सर मच्छरों के लिए बहुत कड़ी है और उन्हें काटने से असमर्थ कर देती हैं। इस घरेलू उपाय के उपयोग के लिए लैवेंडर के तेल का एक कमरे में प्राकृतिक फ्रेशनर के रूप में छिड़कें या और अच्छे परिणाम के लिए (आप अपने क्रीम के साथ मिश्रण कर सकते हैं) आपकी त्वचा पर इसे मलें।

     गंजनी (सिट्रोनेला) के तेल का प्रयोग -                                                         



गंजनी तेल गंजनी घास से निचोड़ा एक सगंध तेल है। यह तेल काफी आसानी से मच्छर के काटने से बचाता है। इतनाकि कई लोग इसके प्रयोग का सहारा लेते हैं बजाय कि रासायनिक एजेंटों का। केवल इतना करने की ज़रूरत है कि एक मोमबत्ती में इसके एक्सट्रैक्ट को डालें या एक वेपराइज़र में और आप मच्छरमुक्त रहें।

     लौंग के तेल को नारियल तेल में मिलाकर त्वचा पर लगाएं-                                

 

कई शोधों में यह प्रमाणित हो चुका है कि लौंग के तेल की महक से मच्छर दूर भागते हैं। लौंग के तेल को नारियल तेल में मिलाकर त्वचा पर लगाएं, इसका असर ओडोमॉस से कम नहीं होगा। लौंग का तेल बाजार में काफी आसानी से मिल भी जाता है। आइंदा मच्छरों से बचने के लिए एक बार लौंग का तेल जरूर ट्राई करके देख लें।

    अजवायन पाउडर  को मच्छर प्रभावित स्थान पर छिड़क दें-                                     

 

आपकी किचन में मसालेदानी में रखी अजवाइन आपको मच्छरों से भी बचा सकती है। जी हां, एक थाई शोध के अनुसार, अजवायन से मच्छर दूर रहते हैं। इसके लिए पहले अजवाइन को पीस लें। जिन जगहों पर मच्छर अधिक लगते हैं, वहां पर अजवायन छिड़क दें या अजवायन का पाउडर डाल दें।

     सोयाबीन के तेल से त्वचा की हल्की मसाज-                                                   


बहुत से लोगों के घरों में खाने के लिए सोयाबीन का तेल इस्तेमाल किया जाता है। ये तेल न सिर्फ आपके खाने को स्वादिष्ट बनाने में काम आता है बल्कि आपको मच्छरों के काटने से भी बचा सकता है। इसके लिए, सोयाबीन के तेल से त्वचा की हल्की मसाज करें। इससे मच्छर दूर रहेंगे। इसके अलावा इस चीज के लिए यूकोलिप्टस का तेल भी बहुत कारगर है।

     गेंदे का पौधा अपने बगीचे और बालकनी में लगाएं-                                           

 

गेंदे का नारंगी फूल के बारे में कौन नहीं जानता होगा। सभी शुभ मौकों पर गेंदे के फूल का इस्तेमाल किया जाता है। गेंदे के फूल की सुगंध न सिर्फ आपको ताजगी से भर देती है बल्कि मच्छर भी दूर भगाती है। गेंदे का पौधा न सिर्फ अपने बगीचे में रखें बल्कि बालकनी में भी इन्हें लगाएं जिससे शाम के समय मच्छर घर में न घुसें।
  
     काली मिर्च का तेल अपनी त्वचा पर लगा लें -                                                    

 
  
काली मिर्च का तेल लौंग की तेल की ही तरह मच्छरों को आपसे दूर करने में आपकी मदद कर सकता है। आप इस तेल को अपनी त्वचा पर लगा लें और देखियेगा मच्छर आपके करीब नहीं आएंगे।

     वृक्षारोपण  करें मच्छर दूर भगाएं -                                                              

 

अगर आपको यह लगता है कि पेड़ और झाड़ियाँ मच्छरों का उत्पन्न करती हैं तो आप गलत हैं। झाड़ियों और पेड़ों का सही तरह रोपण करना आपके घर को मच्छरमुक्त रख सक्ता है। तुलसी की झाड़ियाँपुदीनागेंदानींबूनीम और सिट्रोनेला घास का रोपण मच्छरों को पैदा होने से रोकने में बेहद मददगार हैं।

     मच्छर भगाने के कुछ देसी उपाय -                                                                 


     मच्छरदानी का प्रयोग करें -                                                                        



भारत का मौसम और तापमान ऐसा है कि 70 फीसदी भारत मलेरिया के खतरे में जीता है. इलाज से बेहतर है सावधानी बरतना. ऐसे में वैज्ञानिक मानते हैं कि आज भी दवा से अच्छा विकल्प है मच्छरदानी|मच्छर भगाने का सबसे आसान उपाय है की आप मच्छरदानी का प्रयोग करे यह  सस्ती  होने के साथ-साथ  स्वदेशी भी है यह सब जगह उपलब्ध है | आज कल  अलग अलग तरह की बाज़ार में मिलती   है | मच्छरदानियाँ मच्छरों को लोगों से दूर रखने मे सफल रहती हैं तथा मलेरिया संक्रमण को काफी हद तक रोकती हैं। एनोफिलीज़ मच्छर चूंकि रात को काटता है इसलिए बड़ी मच्छरदानी को चारपाई/बिस्तर पे लटका देने तथा इसके द्वारा बिस्तर को चारों तरफ से पूर्णतः घेर देने से सुरक्षा पूरी हो जाती है। मच्छरदानियाँ अपने आप में बहुत प्रभावी उपाय  हैं और  बिना मच्छरदानी के सोने के बजाय उनका प्रयोग करने से 70% ज्यादा सुरक्षा मिलती है। 

     मॉस्किटो रिप्लीयन्ट का एक सरल प्रयोग-                                                     


आवश्यक सामग्री :-
मॉस्किटो रिप्लीयन्ट की खली रिफिल , नीम का तेलकपूर(Camphour),मिटटी का तेल(Kerosene Oil),नारियल का तेल(Coconut Oil), |

कैसे प्रयोग करें -
 मॉस्किटो रिप्लीयन्ट की किसी भी रिफिल को पूरा खाली कर लेंइसमें नीम के तेल 70% केरोसिन तेल या मिटटी के तेल 10% नारियल का तेल 15% में कपूर 5 % को पीस इसमें घोल लेंइस रिफिल को उसके प्लग मशीन में लगा कर इस्तमाल करें। इससे मच्छर भाग जाते हैकोई परफ्यूम मिला देने पर गंध भी ठीक रहेगी|

     मच्छर भगाने का सबसे सस्ताटिकाउआसान और देसी तरिका-                       

 

आवश्यक सामग्री :-
एक लैम्प (लालटेन)नीम का तेलकपूर(Camphour),मिटटी का तेल(Kerosene Oil),नारियल का तेल(Coconut Oil)

कैसे बनाये :-
1. नीम -केरोसीन लैम्प:- 
एक छोटी लैम्प में मिटटी के तेल में 30 बुँदे नीम के तेल की डालेंदो टिक्की कपूर को 20 ग्राम नारियल का तेल में पीस इसमें घोल लो इसे जलाने पर मच्छर भाग जाते है और जब तक वो लैम्प जलती रहती है मच्छर वहाँ पर नहीं आते |
2. दीपक :- 
नारियल तेल में नीम के तेल को डाल कर उसका दिया जलाये इससे भी मच्छर नही आयेंगे. 

     गोबर से बनी दूप या अगरबत्ती का इस्तेमाल-                                                    

 

आप गाय के गोबर से बनी दूप या अगरबत्ती का इस्तेमाल कर सकते हैं |इसको  जलाने से सभी  मच्छर भाग जाएँगे | आजकल गाय के  गोबर से बनी धुप , अगरबत्ती आदि बनायीं जाती है | यह आपको आसानी से उपलब्ध हो जाएगी | इसके अलावा गाय के गोबर में नीम के सूखे पत्ते हवंन सामग्री मिलाकर कंडेअगरबत्ती या धूपबत्ती जलाने से मच्छर नष्ट होतें हें| 
नोट-
जिस कमरे के मच्छर भागने है उस कमरे में कंडे लैम्प बत्ती अदि जला रहें हों वेंटिलेशन जरुरी है
अच्छा हैकी एक घंटे के लिए कमरे को बंद कर देंफिर जाली वाली खिड़कियां खोल कर लेंऔर धुप अदि बंद कर सो जायें |

     मछरों से बचने का सटीक और सस्ता उपाय-                                               

 

जब आप कहीं बाहर आउटिंग पर जायें, तो अपने साथ कुछ नीम्बू जरूर लेते जाइये, ये मच्छरों को दूर भगाने का बहुत बढ़िया उपाय है, नीम्बू को बीच में से काटिएदोनों टुकड़ों में 10-15 लौंग घुसा दीजिये, और साथ में रख लीजिये, मच्छर पास आने की हिम्मत भी नहीं करेंगे |




Show Comments: OR
Comments
0 Comments
Facebook Comments by

0 comments:

Post a Comment