Wednesday, 11 November 2015

Diwali sweet: How to make Gulab Jamun using khoya and paneer at home : दिवाली के त्यौहार पर घर पर बनायें स्वादिष्ट गुलाबजामुन

   Diwali sweet: How to make Gulab Jamun using khoya and paneer at home   


गुलाब जामुन (Gulab Jamun) भारत की बहुत ही प्रसिद्ध पारंपरिक मिठाई है जिसे सभी त्योहारों पर जरूर बनाया जाता है। गुलाब जामुन खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होते है और इन्हे बहुत ही आसानी से घर पर बनाया जा सकता है।गुलाब जामुन तो लगभग सभी की पसंदीदा मिठाई है। अक्सर आप इन्हें किसी विशेष उत्सव या समारोह में खाते होंगे या फिर कभी-कभी बजा़र से लाकर। पर क्या कभी आपने इन्हें घर पर बनाया है? यदि नहीं तो आज बनाकर देखिये। गुलाब जामुन को पारंपरिक रूप में मावा से बनाया जाता है जो खाने में ज्यादा स्वादिष्ट लगते है तो आईये आज हम भी मावे से गुलाब जामुन (Gulab Jamun) बनायेंगें।


        आवश्यक सामग्री-                                                                                              



        गुलाब जामुन बनाने के लिए -                                                                                                                                            
Æमावा (खोया)                                  -       250 ग्राम  (1 1/4 कप)
Æपनीर                                             -       100 ग्राम (1/2 कप)
Æमैदा (रिफाइन्ड फ्लोर )                      -       20 - 30 ग्राम(2-3  टेबिल स्पून)
Æसूजी fine sooji/rava/semolina      -       2 टेबल स्पून  
Æदूध                                               -       1 टेबल स्पून अथवा आवश्यकतानुसार
Æकाजू                                             -      1 टेबल स्पून 
Æकिशमिश                                       -      1 टेबल स्पून
Æघी                                                 -     गुलाब जामुन तलने के लिये
Æबेकिंग पाउडर                                   -    1/4 चम्मच


        गुलाब जामुन बनाने की विधि (preparing jamuns):                                        


õसबसे पहले खोया या मावा को एक चौड़े बाउल में रखकर हाथों से मसलेंगे जब तक की वह नर्म,चिकना न हो जाये | उसमे कोई भी गांठ नहीं रहनी चाहिए यदि आप चाहें तो मावा को कद्दूकस करके मसल सकती हैं |

õइसके बाद आप इसमें कद्दूकस किया हुआ पनीर , मैदा ,सूजी ,बेकिंग पाउडर और इलायची पाउडर डालकर अच्छी तरह मलें | इसके बाद सभी सामग्रियों में थोडा गुनगुना दूध डालकर मुलायम आटे की तरह गूंथ लें। 

 õअब इस आटे को खूब मसल मसल कर एकदम चिकना कर लें जिससे हमारे गुलाब जामुन मुलायम बनेंगें। अब आप गुलाब जामुन की गोली बनाकर देखें यदि  गुलाब जामुन की गोली बनाने में परेशानी हो रही है तो उसमें  दूध की कुछ मात्रा  मिला दें लेकिन याद रखें मिश्रण को गूथना  नहीं है |

õमैदा और मावा के मिश्रण को गूंदने के बाद अब थोडा सा पेडा अपने हाथो मे ले और छोटे-छोटे गोले बनाये

õइन्हें अपने दोनो हाथो की मदद से गोल आकार दे और कोशिश करें की इनका आकार 1 इंच से बड़ा न हो| यह गोले अभी बहुत छोटे लग रहे होंगे परन्तु इनका आकार तलने के बाद बढेगा और चीनी मे भिगोने के बाद और भी बढ़ जाएगा|

 õअब इस आटे को 14 हिस्सों में बाट लें. हाथ में ज़रा सी चिकनाई लगाकर लोई को चिकना करें. अब इसे एक कपड़े से ढककर रखें |

õतैयार मावा से थोड़ा सा मावा ( करीब एक छोटी  चम्मच ) अंगुलियों की सहायता से निकालिये, उसे हथेली पर रखकर चपटा करके 3-4 काजू के टुकड़े और एक किशमिश उसमें भरने के लिये उसके ऊपर रखें |

õमावा को चारों ओर से उठा कर काजू किशमिश को मावा के अन्दर बन्द कर दीजिये, अब आहिस्ता से लोई को बंद कर दें. हथेली में धीरे से घूमकर गोले को एकदम चिकना कर लें. अगर इसमें दरार होगीं तो गुलाब जामुन तलने में फट सकता है. मावा का गोला अच्छी तरह बन जाने के बाद प्लेट में रख लीजिये.  सारे गोले इसी तरह तैयार कर लीजिये |

õइसी प्रकार सभी लोइयाँ तैयार कर लें. ध्यान रखिए की लोइयों को हमेशा कपड़े से ढक कर रखें जिससे वह सूखने ना पाएँ.


        चाशनी के लिए -                                                                                                




        आवश्यक सामग्री-                                                                                              

Æचीनी -                                            -         डेढ़ कप (300 ग्राम )
Æपानी                                               -         डेढ़ कप
Æइलायची                                          -         4-5
Æगुलाबजल                                        -        5 बड़े चम्मच
Æकेसर                                             -          चुटकी भर
Æदूध                                                -         1 टेबल स्पून(नोट पढ़ें )


        चाशनी बनाने की विधि (preparing sugar syrup):                                              

 

ïअब आप एक फैले मुँह के बर्तन में डेढ़ कप शक्कर को डेढ़ कप पानी मे उबालिए. शक्कर के पिघलने के बाद और एक उबाल आ जाने के बाद आँच को धीमा कर दें चीनी की चाशनी मे अब उबाल आ गया है अब आप  चुल्हे की आंच को 10 मिनट के लिए धीमी कर दे और इसे ऐसे ही पकने दे|
ï10 मिनट बाद, चाशनी को परखने के लिए चाशनी की 1-2 बूंदे अपने अंगूठे पर ले|
ïअब पहली ऊँगली से अंगूठे पर रखी बूंदों को  छूकर अलग करके देखें अगर अलग करते समय आपको एक चाशनी की तार नज़र आनी चाहिए अर्थात तार अधिक दूरी तक बननी चाहिए  |
ïअगर कोई तार नहीं बनती दिखती तो मानिए की चाशनी अभी तैयार नहीं हुई है ,इसे 2-3 मिनट और पकनें की जरूरत है |
ïअगर 1 तार बनती दिखती है तो चाशनी तैयार है| चूल्हे को बंद कर दे| इसके बाद चाशनी को ठंडा करके, छान लीजिये. 
ïइस मिठाई के लिए हमें ज़्यादा गाढ़ी चाशनी नही चाहिए. अब आप चाशनी में कुटी इलायची, गुलाब जल और केसर के धागे डालें.


       गुलाब जामुन तलने के लिए( Frying gulab Jamun)                                       

 ôअब हम गुलाब जामुन को डीप फ्राई करेंगें। गुलाब जामुन को डीप फ्राई करने के लिए एक कढ़ाही में घी डाल कर गरम करने के लिए गैस पर रखें। 
ôजब घी अच्छी तरह से गरम हो जाये तब गैस को धीमा कर दें और गुलाब जामुन के 2-3 गोलों को गरम घी में डालकर तलें। और आहिस्ता से कलछी से इसमें सभी तरफ से घी डालते रहें. ऐसा करने से गुलाब जामुन सभी तरफ से एक सा रंग लेते हैं. गुलाब जामुन को घी में हौले-हौले हिलाते रहें.
ôइस बात का आप ख़ास ध्यान रखें की गुलाब जामुन को तलते समय गैस धीमी ही रहनी चाहिए और गुलाब जामुन को तलते समय गरम गरम घी गुलाब जामुन पर कलछी से डालें और ब्राउन होने के बाद हल्के से पलट पलट कर तलें।
ôजब गुलाब जामुन के चारों तरफ ब्राउन हो जाये तब तलें हुए गुलाब जामुन को कढ़ाई से निकाल कर प्लेट में रख लें और थोड़ा ठंडा हो जाने पर (करीब 1-2 मिनट बाद) हलकी गरम चाशनी में डाल दें।
ôइसी तरह से पूरे मिश्रण से बनाये हुये गोल गोल गुलाब जामुन को तल कर चाशनी में डाल दें।
ôतले हुये गुलाब जामुन को करीब 1 घंटे तक चाशनी में भिंगो कर रखने के बाद ये फूलकर स्पंजी और मीठे हो जाते है, फिर आप गुलाब जामुन को सर्विंग प्लेट में निकाल कर गरमा गर्म या ठंडा सर्व करें। स्वादिष्ट गुलाब जामुन (Gulab Jamun) बनकर तैयार हो गये है।

       सुझाव (Suggestion)                                                                                  



[सभी गुलाब जामुन को तलने से पहले आप 1 गुलाब जामुन को गरम घी में डाल कर तल कर टेस्ट कर लें अगर गुलाब जामुन घी में फट रहा है तो गुलाब जामुन के मिश्रण में थोड़ा मैदा और मिला कर मिक्स कर लें।
[यदि गुलाब जामुन घी में फट रहे हों या फिर ज्यादा नरम बन रहे हों तो थोडा सा मैदामावे के आटे में मिलाकर अच्छी तरह मल लें।
[यदि गुलाब जामुन ज्यादा सख्त बन रहे हों तो मावा के आटे में थोड़ा सा ( 1-1 1/2 टेबल स्पून ) दूध मिलाकर अच्छी तरह मल लें।
[गुलाब जामुन  को अधिक गरम चाशनी में ना डालें।
[यदि आप चाहे तो गुलाब जामुन के बीच में कुछ भरकर जैसे – काजू के पीसइलाइची पाउडर या फिर किशमिश भी बना सकते है क्योकि कुछ लोग ऐसा मानते है कि गुलाब जामुन के बीच में कुछ भर देने से गुलाब जामुन अंदर से एकदम मुलायम रहते है।
        रखाव और परोसना                                                                                

Êगुलाब जामुन को रेफ्रीजिरेटर में रख कर 3-४ दिन तक खाया जा सकता है| चाशनी को अलग करने की जरूरत नहीं है| दोनों को एक साथ रेफ्रीजिरेटर में रख सकते है|
Êगुलाब जामुन को गरम करके खाया जाता है| आप इसे माइक्रोवेव में या फिर सचूल्हे पे रख कर गरम कर सकते है|
Êअगर आपके पास माइक्रोवेव नहीं है और गुलाब जामुन की चाशनी सूख चुकी है तो चूल्हे पे इन्हें गरम करना मुश्किल होगा| इसके लिए भी हमारे पास समाधान है| आप पानी की भाप से इन्हें गरम कीजिये|

        नोट (Notes)-                                                                                           



[यदि आपकी चाशनी में गंदगी है तो गंदगी निकलने के लिए आप चाशनी में दूध या थोड़ी सी फिटकरी डाल दें जिससे चाशनी में मौजूद सारी गंदगी परत के रूप में ऊपर आ जाएगी जिसे आप  चम्मच की सहायता से आसानी से निकल सकते हैं   |

इस पोस्ट में प्रयुक्त चित्र google image से लिए गए हैंयदि किसी को इससे कोई आपत्ति/शिकायत  है तो vsmskb@gmail.com पर संपर्क करे |

Show Comments: OR
Comments
0 Comments
Facebook Comments by

0 comments:

Post a Comment